मसंकी में हुए अंधे कत्ल का ओड़गी पुलिस ने किया खुलासा, आरोपी गिरफ्तार

3 Min Read
  • बुआ सास का हत्यारा निकला दामाद

दिनेश साहू

सूरजपुर: गत् 26 दिसम्बर 2019 को ग्राम मसंकी निवासी भगवान दास सोनी ने थाना ओड़गी में सूचना दिया कि इसकी 65 वर्षीय बहन मानमती सोनी पति स्व. शिवराम सोनी के घर का ताला बंद है जो प्रतिदिन सुबह बाहर निकल जाती है। सूचना पाकर थाना प्रभारी ओड़गी पुलिस स्टाफ के साथ तत्काल मौके पर पहुंचे और पंचनामा कार्यवाही के बाद ताला को तोड़वाया। घर के अंदर प्रवेश करने पर बिस्तर में मानमती की लाश कंबल में ढका हुआ मिलने पर पुलिस ने मर्ग कायम कर शव पंचनामा की कार्यवाही किया। पंचनामा कार्यवाही के दौरान मृतिका के शरीर पर किसी प्रकार के चोट का निशान नहीं पाया गया। इसके उपरान्त शव को पीएम हेतु सीएचसी ओड़गी भेजा गया जो डाॅक्टर के द्वारा शार्ट पीएम रिपोर्ट में मृतिका की मृत्यु हत्यात्मक प्रकृति का होना बताया गया। जिस पर ओड़गी पुलिस ने अज्ञात व्यक्ति के विरूद्व अपराध क्रमांक 89/19 धारा 302, 201 भादवि का पंजीबद्व विवेचना में लिया।
मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक सूरजपुर श्री राजेश कुकरेजा ने मामले से जुड़े सभी बिन्दुओें की बारीकी से जांच कर जल्द खुलासा करते हुए आरोपी को गिरफ्तार करने के निर्देश दिए।
मामले की जांच एसडीओपी प्रतापपुर राकेश पाटनवार के नेतृत्व में ओड़गी पुलिस के द्वारा किया गया। जांच के दौरान पुलिस को मुखबीर से सूचना मिली कि गत् 25 दिसम्बर की रात्रि में मृतिका का दामाद विजय सोनी मृतिका के घर आया था। जिस आधार पर पुलिस ने बरतुंगा-चिरमिरी निवासी विजय सोनी को तलब कर हिकमत अमली से पूछताछ करने पर उसने बताया कि 25 दिसम्बर 2019 को अपने मोटर सायकल ग्लैमर से ग्राम मसंकी बुआ सास मानमती के घर रात्रि करीब 8.30 बजे आया था इसके बाद वहां से शराब पीने चला गया और शराब पीकर वापस बुआ सास के घर रूका, बुआ सास मानमती के द्वारा शराब पीने की बात को लेकर गाली देकर डण्डा से मारने लगी जिस पर इसने डण्डा छिनकर मानमती को तखत पर पटककर हाथ से गला दबाकर हत्या कर दिया और हाथ पैर सीधा कर कंबल से ढक कर बाहर से ताला बंद कर चाभी को छुपा दिया और अपने घर बरतुंगा चला गया। पुलिस ने आरोपी के निशानदेही पर ताला की चाभी को बरामद कर आरोपी विजय सोनी पिता सरयू प्रसाद सोनी उम्र 38 वर्ष निवासी बरतुंगा, थाना चिरमिरी, जिला कोरिया को विधिवत् गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय में पेश किया गया जहां से उसे जेल भेज दिया गया।
इस कार्यवाही में एसडीओपी प्रतापपुर राकेश पाटनवार, थाना प्रभारी ओड़गी आर.एस.पैंकरा, एसआई नवल किशोर दुबे, प्रधान आरक्षक रामजीत भगत, आरक्षक सूर्यप्रताप सिंह, गहेन्द्र कुरैटी, अशोक कुमार व महिला आरक्षक अल्पना तिर्की सक्रिय रहे।

Share This Article
Leave a comment